Category Archives: Hashim Amla

स्टेन गन है या ह′ अमला’


जी हाँ! बिलकुल सही पढ़ा आपने. भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेली गयी  पहली टेस्ट मैच में यही हुआ. नागपुर के जमता 

स्टेडियम में खेली  जा रही  श्रंखला के पहली मैच में दक्षिण अफ्रीका ने टस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय लिया. खेल के तीसरे ओवर तक ये फैसला गलत नज़र आने लगा जब ज़हीर खान ने पहली अश्वेल प्रिंस को उठती हुई बौंसर पे विक्केट के पीछे आउट करवाया तत्पश्चात कप्तान ग्रेमे स्मिथ की गिल्लियां बिखेरते हुए उन्हें चलता  किया .दक्षिण अफ्रीका टीम ६ रन पे २ विक्केट गवां के मुश्किल में थी.उस वक़्त विक्केट पे दोनों बल्लेबाज़ हाशिम अमला और जाक्स कल्लिस खाता भी नहीं खोल पाए थे परन्तु ये दोनों बल्लेबाज़ शायद किसी और संकल्प के साथ उतारेथे. इन २ विकेट्स के बाद पूरा दिन भारतीय गेंदबाज़ विकेट्स के लिए तरसते रहे. कल्लिस ने पहले रक्षात्मकतथा बाद में आक्रामक रुख अपनाया और अपना ३४थ शतक पूरा किया इसके साथ ही उन्होंने अपनेकरियर के १०,००० रून्स भी पूरे किये. एक तरफ अगर

कालिस पारी को मजबूती दे रहे थे तोह दोस्सरे छोर पे अमला ने भीउनका बखूबी साथ निभाया और शतक ठोंक दिया. दुसरे दिन का पहला सत्र  भी लगभग ऐसा ही था जब भारतीय गेंदबाज़ विक्केट के लिए तरसते दिखे.

कालिस ने बेहतरीन १७३ रन की पारी खेली और अपनी टीम की मजबूत आधारशिलाराखी. लेकिन अमला का हमला जारी था और उन्होंने अपना दोहरा शतक ठोंक दिया. दक्षिण अफ्रीका टीम ने तीसरे सत्र में जल्दी जल्दी रन जोड़े. हालांकि इस बीच कुछ विकेट्स भी गए लेकिन तब तक पहाड़ सा स्कोर बन चुक्का था जो भारतीय टीम को चिंता में डालने के लिए काफी था. अमला ने नाबाद २५३ की पारी खेली और दक्षिण अफ्रीका टीम ने ५५८/६ पे पारी घोषित की.भारत ने पहली पारी की शुरुवात तेज़ी से की और दुसरे दिन का खेल ख़तम होने तक २५ रन बना लिए और दोनों सलामी बल्लेबाज़ इस उम्मीद के साथ पविलिओं लौटे की कल का दिन ज़बरदस्त बल्लेबाजी कर टीम को संकट से निकलना है.जहाँ पहले दो दिन गेंबाज़ों के लिए सूखे साबित हुए तीसरे दिन ने विकेट्स की झाधि लगा दी. स्तेयं ने भारतीय पारी को ध्वस्त करते हुए ७ विक्केट निकले. पूरी टीम २३३ पे सिमट गयी और फोल्लो ओन्न खेलना पड़ा. पहली पारी का मुख्याआ कर्षण सहवाग की जुझूरू १०९ रन की पारी थी जिसने कुछ हद तक लाज बचायी. दूसरी पारी आगाज़ भी वैसे ही हुआ तथा तेस्सरे दिन का खेल ख़तम होने तक ६६-२ विक्केट गवां के भारत संकट में था. दूसरी पारी में केवल सचिन ने सुन्शार्ष जारी रखा तथा अपना ४६वे शतक बनाया  परन्तु येशत कभी किसी काम न आ सका और टीम ३१९ पे अलआउट हो गयी जिसके फलस्वरूप दक्षिण अफ्रीका ने मैच पारी और ६ रन से जीत लिया. दूसरी पारी में भी स्तेयं ने ३ तथा स्पिन्नेर हर्रिस ने ३ विक्केट झटके. स्तेयं ने शानदार गेंदबाजी करते हुए मैच में १०  विकेट्स हासिल किये .हाशिम  अमला को उनकी शानदार पारी के लिए मन ऑफ़ धी मैचखिताब से नवाज़ा गया.Shams n Wags की प्रतिक्रिया व्यक्तिगत रूप से हम इस हार से काफी दुखी हैं तथा टीम सेलेक्शन से नाखुश.हाल ही मैं कई ऐसे खिलाडी उभरे जिन्होंने घरेली क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन किया मगर उन्हें नज़रंदाज़ किया
गया साथ ही साथ सीनीर प्लायेर्स का चोटिल होना चिंता का विषय है परन्तु जिन्हें मौके मिले वो इसे ठीक ढंग से भुना नहीं पाये. अंत में दक्षिण अफ्रीका टीम को बधाई की कम समय में ही पूरी टीम ने परिस्तिथियों के हिसाब से अपने आप को ढाला और शानदार खेल से विजय प्राप्त की.श्रंखला का दूसरा मैच कोल्कता के एड्दन्न गार्डेन्स में १४-१८ फेब १० को खेला जायेगा.