ShamsnWags

Pitch it up!

Himmat Na Haar

1 min read

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहली टेस्ट में धूल चाटने के बाद, विराट कोहली की टीम इंडिया के होश अब ठिकाने आए होंगे, और वे सब अभ्यास में जुट गए होंगे, ऑस्ट्रेलिया को उतनी ही करारी मात बेंगलुरु में देने के लिए. हम फैन्स की हालत भी टीम इंडिया से कुछ अलग नहीं है. अब फैन्स तो मैदान में नहीं उतर सकते, तो चलो हम फैन्स अपना ढाढस बंधने के लिए नज़र डालें उस कारनामे पर, जो भारत के खिलाडियों ने ऑस्ट्रेलिया के टीम के खिलाफ कर दिखाए थे, मैच तो नहीं जीत पाए, मैच हारे भी पर दर्शकों का दिल जीत कर.
महाराष्ट्र में सांगली के पास एक छोटी सी रियासत थी – ‘जत’. राजा साहब क्रिकेट के बड़े शौकीन. ऑस्ट्रेलिया के मशहूर लेगस्पिनर क्लेरी ग्रिमेट को २००० पौंड की बड़ी रकम देकर उन्होंने खुद को और अपने छोटे भाई को कोचिंग देने के लिए अपनी रियासत बुलवाया. जत के एक २३ साल के लड़के को ग्रिमेट ने हाथ में बल्ला थमाया, और कुछ स्ट्रोक्स खेलने को कहा. उस लड़के ने कुछ स्ट्रोक्स हवा में खेले, और उसकी शैली देखकर प्रभावित ग्रिमेट ने उसे बल्लेबाजी के गुर सिखाने शुरू किये. १९४६ में वह लड़का इंग्लैंड के खिलाफ भारत की तरफ से खेला, लेकिन ज्यादा रन न बना पाया. हालांकि, वह तेज़ गेंदबाजी के सामने निडरता से खड़ा रहा, और यही बात उसे १९४७- ४८ के भारत के ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए चयनित होने के लिए काफी थी. रेमंड लिंड्वाल, कीथ मिलर, एर्नी तोशैक यह ऑस्ट्रलियाई तेज़ गेंदबाजों की तिकड़ी उस वक़्त दुनिया के सारे बल्लेबाजों को अपनी तेज़ गति गेंदों से भयभीत कर रही थी. ब्रैडमन, मोरिस, बार्नस्, हैसेट, मिलर का बैटिंग लाइन अप भी दुनिया का सबसे बेहतरीन था. पहली ३ टेस्टों में ऑस्ट्रेलिया भारत को पराजित कर चुका था. भारत को नौसिखियों का दल माना जाने लगा था. चौथा टेस्ट एडिलेड में खेला जाना था, जहाँ के ग्रिमेट रहनेवाले थे. अब तक उस लड़के ने कोई बड़ा स्कोर टेस्ट क्रिकेट में नहीं किया था. पहली पारी में ऑस्ट्रेलिया ने हैसेट और बार्नस् के शतक, ब्रैडमन के दोहरे शतक और मिलर के अर्धशतक के दम पर ६७४ का विशाल स्कोर खड़ा किया. भारत की पारी शुरुआत में लड़खड़ाई, और उनके पहले ३ विकेट मात्र ६९ के स्कोर पर पतित हुए. लाला अमरनाथ का साथ देने वह लड़का मैदान में उतरा, और स्कोर १२४ पर पहुँचने पर लाला अमरनाथ भी आउट हुए. गुल मोहम्मद भी ज्यादा देर न टिक पाए. उनके आउट होने पर एक और कोल्हापुरी नौजवान मैदान पर इस जत के लड़के के साथ बल्लेबाजी करने उतरा, और दोनों ने मिलकर ऑस्ट्रेलिया के सारे गेंदबाजों की जमकर धुनाई की. दोनों ने १८७ रन जोड़े, और ३२१ के स्कोर पर जत का लड़का ११६ रन बनाकर आउट हुआ. कोल्हापुरी लड़का खेलता रहा, और उसने १२३ रन बनाकर भारत का स्कोर ३८१ तक पहुँचाया और भारत की पारी सिमट गई. जत के इस लड़के का नाम था – विजय हजारे और कोल्हापुरी लड़के का -दत्तु फड़कर.
IndVsAustralia
ऑस्ट्रेलिया ने भारत को फॉलो ऑन दिया, और भारत के दो विकेट शून्य के स्कोर पर चटक गए. हजारे बल्लेबाजी करने उतरे, और तीसरा विकेट भी जल्द ही ३३ के स्कोर पर आउट हुआ. इस बारी हजारे और कर्नल हेमू अधिकारी को छोड़कर और कोई विशेष प्रभाव नहीं दिखा पाया, और भारत की पारी २७७ पर सिमट गई, जिस में हजारे ने शानदार १४५ रन बनाए और हेमू अधिकारी ने ५१ रन बनाए. भारत एक पारी और १६ रन से यह टेस्ट तो हार गया, लेकिन हजारे, फड़कर और अधिकारी ने ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट प्रेमियों के दिल जीत लिया, और भारत को भी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेलने के काबिल माना जाने लगा. मैच ख़त्म होते ही ग्रिमेट ने हजारे को अपने घर ड्रिंक्स पर आमंत्रित किया, और उनके लिए टोस्ट उठाते हुए कहा, “Vijay, a toast. You have made me a proud man today.”

Special thanks to Sanjeev Sathe for contributing this article.

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.